देश-विदेश

जिले के कोरकोटी गांव के रहने वाले तामेश्वर कच्छप की 14 साल की बेटी मंजू गंभीर बीमारी से पीड़ित है. बीमार बेटी को तिल-तिल मरता देख अब बेबस माता-पिता ने लोगों से मदद की गुहार लगाई है.

बता दें कि धनोरा के आदिवासी छात्रावास में रहकर कक्षा 9वीं की पढा़ई कर रही मंजू कच्छप की तबियत 20 सितंबर को खराब हुई थी. जिसके अगले दिन मंजू के माता-पिता उसे देखने हॉस्टल पहुंचे. वहां पता चला कि हॉस्टल अधीक्षिका ने मलेरिया से पीड़ित बताकर मंजू को अधिक मात्रा में दवाई खिला दी.

मंजू के पिता तामेश्वर कच्छप भारी मन से बताते है कि मंजू को मलेरिया की दवाई खिलाई गई, उसके बाद से उसकी सेहत और खराब हो गई. उन्होंने बता कि वे मंजू को इलाज के लिए केशकाल के अस्पताल में ले गए, जहां उसे भर्ती कर लिया गया, लेकिन उसकी सेहत में कोई सुधार नहीं हुआ. इसके बाद से वे अलग-अलग अस्पतालों के चक्कर लगा रहे हैं. पीड़ित पिता ने बताया कि कोंडागांव के सरकारी अस्पताल में भी इलाज के लिए मंजू को भर्ती कराया गया था, लेकिन वहां भी उसे आराम नहीं मिला.