NEWS छत्तीसगढ़

यूपी में अमित शाह ने शुरू किया चुनावी कैंपेन, मायावती के 15 से अधिक नेताओं ने ज्वाइन की भाजपा

लोकसभा चुनाव के लिए मतदान संपन्न होने में महज एक महीने से भी कम वक़्त बचा है, लेकिन महागठबंधन से नेताओं का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी है। उत्तर प्रदेश में दो महीने पहले बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) द्वारा समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ गठबंधन के ऐलान के बाद से यहां भी परिस्थितियां सही नहीं है। इस दौरान मायावती की नेतृत्व वाली पार्टी से 15 बड़े नेताओं ने नाता तोड़ बीजेपी जॉइन कर लिया है। इनमें 11 नेता ऐसे हैं जिन्होंने बीएसपी के टिकट पर लोकसभा या विधानसभा का चुनाव लड़ा है।

11 अप्रैल से शुरू होने वाला मतदान उत्तर प्रदेश में सभी सात चरणों में संपन्न होगा। लेकिन, इससे पहले ही कांग्रेस, आरएलडी और समाजवादी पार्टी के 28 नेताओं ने बीजेपी का दामन थाम लिया है। इनमें मायावती की पार्टी बीएसपी का साथ छोड़ने वाले नेताओं की तादाद अधिक है। पार्टी छोड़ने वाले नेताओं में से एक ने दबे हुए अंदाज में बताया कि उन्होंने अपने लोकसभा क्षेत्र से टिकट सुरक्षित रखने के लिए राजनीतिक पाला बदला है। बीएसपी और समाजवादी पार्टी ने जनवरी में गठबंधन पर औपचारिक मुहर लगा दी थी। सीट समझौते के तहत उत्तर प्रदेश की कुल 80 लोकसभा सीट में से मायावती की पार्टी 38 और अखिलेश यादव की पार्टी (सपा) ने 37 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया।

वैसे बीजेपी का कहना है कि जो भी उनके लिए ज्यादा वोट हासिल करेगा उनके लिए पार्टी का दरवाजा खुला हुआ है। लेकिन, मतदान से पहले बीएसपी के खेमें से नेताओं को अपने पाले में करना बीजेपी का यह एक गेम-प्लान है। इसके तहत वह बेहद ही खास वक़्त में बीएसपी और सपा की मजबूत गणित को बिगाड़ देना चाहती है। जिन बीएसपी नेताओं ने बीजेपी जॉइन किया है उनमें कई मंत्री और पार्टी में विशेष स्थान रखते थे। इनमें विजय प्रकाश जायसवाल भी शामिल हैं जो 12 मार्च को बीजेपी में शामिल हुए। जायसवाल ने बीएसपी के टिकट पर 2014 में वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *