NEWS खास खबर छत्तीसगढ़ रोचक तथ्य

श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी मौलिक शोध को बढ़ावा देने पर जोर

रायपुरः श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसीए कुम्हारी में गुरुवार को तीन दिवसीय सीईपी कार्यक्रम का शानदार समापन हुआ। सीईपी कार्यक्रम फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया के तत्वावधान में आयोजित किया गया था। 18 सितंबर से 20 सितंबर तक देशभर से आए शिक्षकए विद्वान और फार्मेसी संस्थानों से जुड़े वक्ताओं ने अपने.अपने विचार व्यक्त किए। सेमिनार का विषय अकादमिकए अनुसंधान और उसके प्रभावों का विश्लेषण कर शोध छात्रों के लिए सतत शिक्षा कार्यक्रम आयोजित करना था।

सीईपी कार्यक्रम का उद्घाटन दुर्ग की हेमचंद यादव यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर शैलेन्द्र सराफ ने किया। जबकि कार्यक्रम का समापन फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया की सदस्य प्रोफेसर स्वर्णलता सराफ के द्वारा किया गया। इस अवसर पर श्री रावतपुरा सरकार लोक कल्याण ट्रस्ट के उपाध्यक्ष डॉण् जेण् केण् उपाध्यायए कुम्हारी कैंपस के डायरेक्टर महेन्द्र कुमार श्रीवास्तव एवं एसआरआईपी की प्रिंसिपल डॉण् चंचलदीप कौर मुख्य रूप से उपस्थित रहे। तीन दिवसीय सेमिनार में हर दिन करीब 5 सत्र आयोजित किए गए। इन सत्रों में ष्शिक्षा के महत्वए शिक्षाविदों के शोध का पेटेंट कराए जानेए शोध में मौलिकता बनाए रखनेए चोरी के साहित्य से बचनेए शिक्षण कौशल को बढ़ावा देनेए फार्मेसी के क्षेत्र में ज्ञान को और बढ़ावा देनेए फार्मेसी के छात्रों में शोध के प्रति रुचि जागृत करने और शोध के लिए वित्त पोषण करने वाली संस्थाओं पर चर्चा की गई।

तीन दिवसीय सेमिनार में भाग लेने वालों में इंदौर की एसोसिएट प्रोफेसर डॉण् शिखा अग्रवालए बिलासपुर से डॉण् आदित्य त्रिवेदीए पंडित रविशंकर शुक्ल यूनिवर्सिटी के फार्मेसी विभाग की डीन प्रोण् डॉण् मंजू सिंहए कोलंबिया इंस्टीट्यूट के डॉण् अमित रॉयए डॉण् प्रीती कोठियालए डॉण् प्रीति गुरानीए डॉण् अनिश चंडीए पेटलेक्स बिजनेस सॉल्यूशन के निदेशक विजय कुमार शिवपुजेए लखनऊ के ईरा कॉलेज ऑफ फार्मेसी की वाइस प्रिंसिपल डॉण् मोहिनी चैरसियाए गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय के डॉण् हरीश रजक एवं सैकड़ों शोधार्थी शामिल हुए।

सीईपी कार्यक्रम के समापन अवसर पर कार्यक्रम की समन्वयक डॉण् चंचलदीप कौर ने सभी विद्वानों का शुक्रिया अदा किया। सीईपी कार्यक्रम में शामिल हुए सभी शिक्षकए शोधार्थी एवं वक्ताओं को भेंट एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी संस्थान ने इस तरह के शैक्षणिक कार्यक्रम भविष्य में भी कराते रहने को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जताई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *